Home > ख़बरें > बीएसपी मेयर ने पद सँभालते ही सुनाया देशविरोधी फैसला, बीजेपी को दिया बड़ा झटका, जमकर फूटा गुस्सा

बीएसपी मेयर ने पद सँभालते ही सुनाया देशविरोधी फैसला, बीजेपी को दिया बड़ा झटका, जमकर फूटा गुस्सा

लखनऊ : देश में भी क्या अजीब मनोदशा चल पड़ी है, जो देश खाने पीने रहने, आज़ादी से जीने की इजाज़त देता है, उसी देश का सम्मान करने में लोगों को तकलीफ हो रही है. अभी यूपी निकाय चुनाव के नतीजे सामने आये जिसमे BJP के 14 और BSP के 2 उम्मीदवार जीते. लम्बे अरसे बाद मायावती की पार्टी ने खाता खोला है और खाता खोलते ही देशविरोधी रंग दिखाने शुरू कर दिए हैं.


बीएसपी मेयर ने पलटा बीजेपी का फैसला

अभी कुछ वक़्त पहले ही खबर आयी थी जब यूपी निकाय चुनाव के नतीजे आने के बाद BSP की रैली में पाकिस्तान ज़िंदाबाद और देश विरोधी नारे लगाए गए थे. जिस खबर पर लोगों ने काफी आक्रोश जताया था. तो वहीँ एक बार फिर BSP ने देशभर में विवाद खड़ा कर दिया है. बसपा की नवनिर्वाचित मेयर सुनीता वर्मा ने मेरठ नगर निगम जीतते ही, कामकाज सँभालते ही पूर्ववर्ती भाजपा के फैसलों को बदलना शुरू कर दिया है.

बैठकों में नहीं होगा वंदे मातरम का गान

जी हाँ ताज़ा खबर मुताबिक बसपा की मेयर सुनीता वर्मा ने पदभार सँभालते ही सबसे पहले फैसला सुनाया कि राष्ट्रगीत वंदेमातरम का गान नहीं कराया जाएगा. सुनीता वर्मा ने कहा कि नगर निगम की किसी भी बोर्ड बैठक में आगे से वंदे मातरम का गान नहीं होगा. जबकि राजस्थान, आसाम सभी नगर निगम ने फैसला किया था कि वन्देमातरम का गान ज़रूर किया जायेगा. इससे देशभक्ति की भावना बढ़ेगी.

तुष्टिकरण की राजनीति देशभक्ति से ज़्यादा ज़रूरी

ऐसा लगता है कि मेरठ में और कोई समस्या है ही नहीं, सबसे बड़ी समस्या मेरठ में मेयर सुनीता वर्मा के मुताबिक ये थी कि राष्ट्रगीत वन्देमातरम क्यों हो रहा है. इसलिए उन्होंने लोगों की अन्य समस्याओं को सुनने के बजाय सबसे पहले ताबड़तोड़ फैसला राष्ट्रगीत वन्देमातरम को न गाये जाने का फैसला सुना दिया.ये बेहद शर्म की बात है कि आज तुष्टिकरण की राजनीति देशभक्ति से ज़्यादा ज़रूरी हो गयी है.


सुनीता वर्मा ने पत्रकारों से कहा कि नगर निगम की किसी भी बोर्ड बैठक में आगे से वंदे मातरम का गान नहीं होगा. उन्होंने कहा कि मेरठ में नगर निगम संविधान का पूर्ण रूप से पालन किया जाएगा. संविधान में कहीं नहीं लिखा वन्देमातरम गाना ज़रूरी है.

लोगों का गुस्सा फूट पड़ा

मेयर के इस फैसले का अब सब तरफ विरोध होना शुरू हो गया है. जहाँ एक तरफ सोशल मीडिया पर लोगों का गुस्सा फूट पड़ा है, वहीँ दूसरी तरफ बीजेपी ने भी कड़ा विरोध जताया है. बसपा मेयर के बयान की भाजपा ने कड़ी निन्दा करते हुए सड़कें पर उतरने और प्रदर्शन की धमकी दी है. बीजेपी नेता करुणेश नंदन गर्ग ने कहा कि वो इसका नगर निगम के अंदर और बाहर हर जगह विरोध करेंगे. उन्होंने कहा कि बीजेपी के पार्षद इसके विरोधस्वरूप सड़कों पर उतकर वंदे मातरम गाएंगे.

बसपा के मुशर्रफ हुसैन महजर ने कहा हिंदी में शपथ नहीं लूंगा

यही नहीं बहुजन समाज पार्टी के टिकट पर जीत कर आये अलीगढ़ जिले के वार्ड संख्या 54 से निर्वाचित पार्षद मुशर्रफ हुसैन महजर ने तो हिंदी भाषा में शपथ लेने तक से इंकार कर दिया है. उन्होंने कहा कि वह नगर निगम बोर्ड की बैठक शुरू होने से पहले वंदे मातरम गान में भी शामिल नहीं होंगे, क्योंकि संविधान में इसका कोई जिक्र नहीं है.मुशर्रफ हुसैन महजर ने नगर आयुक्त संतोष कुमार शर्मा को पत्र लिखकर कहा है कि वह पार्षद पद की शपथ उर्दू में लेंगे. इसलिए उनका उर्दू भाषा में शपथ लेने का प्रबंध किया जाए.

गौरतलब है कि प्रदेश में सत्‍तारूढ़ दल भाजपा ने शानदार प्रदर्शन करते हुए 16 नगर निगम से 14 पर कब्‍जा कर लिया था. वहीं, बसपा के खाते में मेयर के दो पद गए थे. मेरठ और अलीगढ़ में नजदीकी मुकाबले में बीएसपी के उम्मीदवार जीते थे.


पीएम नरेंद्र मोदी से जुडी सभी खबरें व्हाट्सएप पर पाने के लिए 783 818 6121 पर Start लिख कर भेजें.

यदि आप भी जनता को जागरूक करने में अपना योगदान देना चाहते हैं तो इसे फेसबुक पर शेयर जरूर करें. जितना ज्यादा शेयर होगी, जनता उतनी ही ज्यादा जागरूक होगी. आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं.


सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें

फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments