Home > ख़बरें > लालू की करतूतों से गुस्से में आये नितीश ने लिया बड़ा फैसला, बिहार की राजनीति में बड़ा उलटफेर !

लालू की करतूतों से गुस्से में आये नितीश ने लिया बड़ा फैसला, बिहार की राजनीति में बड़ा उलटफेर !

nitish-kumar-modi-lalu

पटना : नितीश कुमार ने लालू के साथ गठबंधन करके बिहार में सरकार बना ली लेकिन उसके बाद से ही बिहार की राजनीति में उथल-पुथल शुरू हो गयी. बीच-बीच में नितीश और लालू के बीच मन-मुटाव की ख़बरें आती रही हैं, नितीश का झुकाव पीएम मोदी और बीजेपी की ओर हो रहा है, ऐसी ख़बरें भी अक्सर आती रही हैं. लेकिन अब इस खबर पर मुहर लग गयी है. अभी-अभी बिहार से एक ऐसी हैरतअंगेज खबर सामने आ रही है, जिसने बिहार की राजनीति में भूचाल ला दिया है.

बीजेपी के साथ नितीश का गठबंधन ?

17 साल तक नीतीश की पार्टी जनता दल युनाइटेड (जेडीयू), भारतीय जनता पार्टी के साथ गठबंधन में थी, 2014 लोकसभा चुनाव से पहले प्रधानमंत्री बनने की महत्वाकांक्षा के चलते नितीश ने गठबंधन को तोड़ दिया था. हालांकि नितीश प्रधानमंत्री तो नहीं बन पाए, उलटा बिहार में भी हालत ऐसी हो गयी कि मोदी लहर का मुकाबला करने के लिए उन्हें चारा घोटाले के आरोपी लालू के साथ गठबंधन करना पड़ा.

लेकिन अब चारा घोटाले मामले में झारखंड हाईकोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट ने पलट दिया है और लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई को क्रिमिनल केस चलाने का आदेश दे दिया है. इस आदेश के बाद लालू पर संकट के बादल छा गए हैं और चारा चोर का आरोप झेल रहे लालू के साथ गठबंधन होने के कारण नितीश की भी थू-थू होनी शुरू हो गयी है. ऐसे में खबर आ रही है कि नितीश लालू के साथ गठबंधन ख़त्म करने जा रहे हैं.

लालू के खिलाफ नितीश की कार्रवाई !

बिहार बीजेपी नेता सुशील कुमार मोदी ने दावा किया है कि नीतीश कुमार ने जांच एजेंसियों को लालू प्रसाद यादव और अन्य प्रमुख मंत्रियों की फोन लाइनों को टैप करने के आदेश दे दिए हैं. एक टीवी न्यूज चैनल से बातचीत के दौरान मोदी ने कहा कि, यदि नितीश कुमार लालू का साथ छोड़ देते हैं तो बीजेपी उन्हें समर्थन देने पर विचार कर सकती है. अर्नब गोस्वामी के रिपब्लिक चैनल ने भी इस बारे में ट्वीट करके पुष्टि की है.

इस खबर से ये साफ़ है कि बीजेपी भी नितीश के साथ हाथ मिलाने को तैयार है. गौरतलब है कि बीजेपी के साथ गठबंधन के दौरान नितीश ने बिहार में बेमिसाल काम किया था और प्रदेश को गुंडा-राज मुक्त किया था लेकिन लालू के साथ गठबंधन के बाद ना केवल बिहार में गुंडा-राज वापस आ गया बल्कि नितीश की छवि भी धूमिल हो गयी.

सुशील मोदी पहले भी लालू परिवार की बेनामी संपत्ति को लेकर कई खुलासे कर चुके हैं. अभी हाल ही में अर्नब गोस्वामी के रिपब्लिक चैनल ने जेल में बंद शहाबुद्दीन से लालू की बातचीत का भंडाफोड़ भी कर दिया था, जिसके बाद नितीश पर लालू के साथ गठबंधन ख़त्म करने का दबाव और भी बढ़ गया है.

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments