Home > ख़बरें > अभी-अभी : अरविन्द केजरीवाल के नाक के नीचे हुआ इतना बड़ा हादसा, जिसे देख रौंगटे खड़े हो जायेंगे आपके

अभी-अभी : अरविन्द केजरीवाल के नाक के नीचे हुआ इतना बड़ा हादसा, जिसे देख रौंगटे खड़े हो जायेंगे आपके


नई दिल्ली : अभी-अभी दिल्ली में अरविन्द केजरीवाल सरकार की बड़ी लापरवाही सामने आ रही है. जिससे एक बहुत बड़ा हादसा हो गया है. इस भीषण हादसे से क़ाफी वक़्त से केजरीवाल सरकार को हाईकोर्ट चेतवानी दे चुका था लेकिन दिल्ली सरकार सोती रही और आज ये हादसा हो ही गया.

दिल्ली के गाज़ीपुर में हो बड़ा हादसा

एआई न्यूज़ एजेंसी से आ रही बड़ी खबर के अनुसार पूर्वी दिल्ली में बड़ा हादसा हुआ है यहाँ गाजीपुर में एक बड़े कूड़े के पहाड़ का काफी बड़ा हिस्सा टूट के गिर गया है. जिसकी वजह से इससे लग के जा रही सड़क पर कई गाड़िया मोटरसाइकिल तो काई सारे लोग इसकी चपेट में आ गए हैं. यही नहीं सड़क के साथ में नहर भी है जिसके तेज़ बहाव में कई गाड़ियां और दुपहिया वाहन उस नहर में जा गिरे हैं. अब तक इस हादसे में 4 लोगों के मारे जाने की खबर सामने आ रही है. जानकारी के मुताबिक मलबे में 6 गाड़ियां दब गई है.

घायलों की संख्या बढ़ती जा रही है

आपको बता दें कि यह इलाका दिल्ली और गाजियाबाद का बॉर्डर है और सुबह-शाम भारी संख्या में लोग इस कूड़े के पहाड़ के किनारे से निकलते थे. दमकल की 6 गाड़ियां मौके पर मौजूद हैं और लोगों को बाहर निकालने के लिए ऑपरेशन चलाया जा रहा है. बतायाजा रहा है कि हादसा इतना भयानक था कि नहर के रास्ते जाने वाले बाइक, कार और जेसीबी मशीन के साथ कई महिला और लोग भी इस नहर में डूब गए.


ऐसा लगा मानों कोई बम फट गया हो

घटना के वक्त कूड़े के ढेर के नजदीक के एक चश्मदीद ने बताया कि ऐसा लग रहा था जैसे कोई बम फटा हो. आप तस्वीर देख सकते हैं कि हादसा कितना भयानक है. नहर के किनारे लगी जाली तक टूट गई है. यह पूरे उत्तरभारत का सबसे बड़ा कूड़ा डालने का मैदान था. पूरी दिल्ली का कूड़ा ला-ला कर इसी डंपिंग यॉर्ड में फेंका जाता है इसी वजह से यह कूड़े के ढेर ने एक बड़े पहाड़ की शक्ल ले ली थी. बताया जा रहा है कि बारिश के कारण कूड़े के ढेर में गैस बन रही थी. जिस वजह से यह हादसा हो गया. हादसे में घायलों की संख्या बढ़ती ही जा रही है.

हाई कोर्ट की चेतवानी को भी अनदेखा करती रही दिल्ली सरकार

इसे बंद करने की आवाज कई बार उठ चुकी है लेकिन दिल्ली सरकार के कान पर जूँ तक नहीं रेंगी. कई बार प्रशासन को यह जानकारी दी गई थी कि इस डंपिंग ग्राउंड की क्षमता पूरी हो चुकी है अब इसमें और कूड़ा नहीं डाला जा सकता, जिसके लिए MCD ने अरविन्द केजरीवाल सरकार से और ज़मीन की मांग करी. यहाँ तक की हाई कोर्ट ने भी कई बार आदेश दिया की और ज़मीन का इंतज़ाम जल्द किया जाए. लेकिन हमेशा से इस खतरे को दिल्ली सरकार ने नज़रअंदाज़ करते रहे.

एमसीडी का कहना है कि वह कई बार सरकार से कूड़े के निपटारे के लिए नई जमीन की मांग कर चुका है, लेकिन उसे कूड़े के निपटारे के लिए अभी तक नई जमीन नहीं दी गई. इसे बंद करने की शिकायत कई बार दिल्ली सरकार के सामने उठ चुकी है क्योंकि डंपिंग यॉर्ड अब कूड़े के पहाड़ में बदल चुका है. यह डंपिंग यॉर्ड 70 एकड़ इलाके में फैला है. 3500 मैट्रिक टन कूड़ा डंप होने की उम्मीद जताई जा रही है. यहां प्रतिदिन 600 से 650 ट्रक कूड़ा आता है.

 


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments