Home > ख़बरें > योगी का रौंद्र रूप देख सिंघम बन गयी यूपी पुलिस, लाइव एक्शन को देख आप भी दांतों तले उंगली दबा लेंगे

योगी का रौंद्र रूप देख सिंघम बन गयी यूपी पुलिस, लाइव एक्शन को देख आप भी दांतों तले उंगली दबा लेंगे

सहारनपुर : कुछ दिन पहले ही सहारनपुर जनपद में अलग अलग जगहों पर जातीय दंगे किये गए. 5 मई को सहारनपुर में महाराणा प्रताप की जयंती के दिन शुरू हुआ विवाद तारीखें बदलने के साथ-साथ और भी विकराल और उग्र होता चला गया. मूर्ति पर माल्यार्पण और डीजे बजाने को लेकर शुरू हुआ विवाद जातीय हिंसा का रूप ले लिया. जिसके बाद सीएम योगी के समय रहते कड़ी कार्यवाही की बदौलत अब आखिरकार यूपी पुलिस के हाथ बड़ी सफलता हाथ लगी है.

सहारनपुर दंगे का मास्टरमाइंड को यूपी पुलिस ने धर दबोचा

भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर आजाद उर्फ ‘रावण‘ को प्रदेश की पुलिस ने बृहस्पतिवार को हिमाचल के डलहौजी से गिरफ्तार कर लिया है. सहारनपुर में जातीय हिंसा के बाद से ही चंद्रशेखर फरार चल रहा था और पुलिस उसकी तालश में जुटी हई थी, लेकिन पुलिस को उसका कोई सुराग नहीं मिल पा रहा था. यूपी टास्क फोर्स ने बेहद गोपनीय ऑपरेशन के साथ चंद्रशेखर को धर दबोचा. इसके खिलाफ कोर्ट ने गैर जमानती वारंट पहले ही जारी कर दिया था. साथ ही इसके सिर पर 12 हजार का इनाम घोषित किया गया था. ख़बरों के मुताबिक सहारनपुर जातीय हिंसा के बाद रावण लगातार सोशल मीडिया पर अपने वीडियो के जरिए भड़काऊ और हिंसा को बढ़ाने वाले बयान दे रहा था.

भीम पार्टी के अकाउंट में जमा हुए थे 45 से 50 लाख रुपये

पुलिस सूत्रों द्वारा पता चला था कि जातीय हिंसा के दौरान भीम पार्टी के अकाउंट में 45 से 50 लाख रुपये ट्रांसफर हुए थे. इतने सारे पैसे किसने जमा करवाए इसकी अभी जांच की जा रही है लेकिन इससे ये साफ़ जाहिर है कि ये दंगे पहले से प्रायोजित थे. यही नहीं फेसबुक के जरिए भी भीम आर्मी फंड इकट्ठा करने की कोशिश कर रही था. जिसके बाद पुलिस ने सोशल मीडिया पर बैन लगा दिया था. इससे पहले बुधवार को भी पुलिस ने भीम आर्मी के दो पदाधिकारियों को गिरफ्तार किया था. इनमें एक विधानसभा अध्यक्ष दीपक तथा दूसरा नगर अध्यक्ष प्रवीण शामिल है. जिसके बाद चंद्रशेखर के भाई कमल किशोर को भी पुलिस ने  गिरफ्तार कर लिया. ख़बरों के मुताबिक इन पर आरोप है कि भीम सेना ने पुलिस प्रशासन पर जाम लगाकर पथराव कर पुलिस चौकी में तोड़फोड़ करी, आगजनी की और मौके पर पहुंचे मीडिया के लोगों से मारपीट कर उनके वाहनों एवं उनके आसपास खडे़ वाहनों में आग लगा दिया.

सीएम योगी ने कार्यवाही के आदेश देते हुए सहारनपुर के एसएसपी सुभाष चंद्र दुबे को हटा दिया था. ख़बरों के मुताबिक सुभाष चंद्र दुबे से सहारनपुर जिला संभल नहीं पा रहा था. वहीं डीएम एनपी सिंह को भी हटा दिया गया है. इस सब के बीच विरोधी पार्टियों ने यहाँ भी अपनी राजनितिक रोटियां सेकने से पीछे नहीं रही, मीडिया के मुताबिक मायावती के दौरे के ठीक बाद ही दलित और उग्र होते गए जिससे आंदोलन ने हिंसक रूप ले लिया.

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments