Home > ख़बरें > योगी आदित्‍यनाथ के मुख्यमंत्री बनते ही ‘औकात’ में आये आजम खान, झुक गया घमंडी सर

योगी आदित्‍यनाथ के मुख्यमंत्री बनते ही ‘औकात’ में आये आजम खान, झुक गया घमंडी सर

yogi-adityanath-azam-khan

नई दिल्ली : यूपी में योगी सीएम पद की शपथ ले कर अपनी कैबिनेट के साथ यूपी सरकार का कामकाज संभाल चुके हैं. उनके सीएम बनते ही उनके विरोधियों के सुर में भी बदलाव आना शुरू हो गया है. जो नेता योगी पर निशाना साध कर तीखी बयानबाजी किया करते थे, उनके सुर बदलने लगे हैं. कुछ ऐसा ही हाल सपा के वरिष्‍ठ नेता और मुस्लिम कट्टरवादी छवि रखने वाले आजम खान का भी हो गया है.

आजम का ह्रदय परिवर्तन !

दरअसल कुछ पत्रकार योगी के सीएम बनने को लेकर आजम खान की राय जानना चाहते थे. पत्रकारों को उनसे धमाकेदार बयान उम्मीद थी लेकिन आजम का बयान सुनकर पत्रकार भी हैरानी से उनकी ओर देखते रह गए. आजम ने कहा कि लोकतंत्र में जो जीता वहीं सिकंदर होता है.

दरअसल पत्रकारों को उम्मीद थी कि आजम बीजेपी पर भगवाकरण या अन्य किसी तरह का आरोप लगाएंगे और उन्हें मसालेदार खबर मिल जायेगी लेकिन इसके ठीक उलट आजम नरम स्वर में बोले कि लोकतंत्र में जनता के फैसलों का सम्मान होना चाहिए. किसे सीएम बनाना है, किसे डिप्टी सीएम बनाना है ये जीतने वाली पार्टी का अंदरूनी मामला है.

बेहद शांत अंदाज में आजम ने कहा कि इस बारे में उनकी ओर से कोई राय देना ठीक नहीं होगा. आजम के मुताबिक़ लोकतंत्र में जो जीता वही सिकंदर होता है. उनके कहना है कि हिन्दू धर्म में भगवा कपड़ों का एक अलग स्थान है, इस बारे में उनका राय देना ठीक नहीं होगा.

उन्होंने कहा कि इस बारे में उलेमा काउंसिल राय दें, अहमद बुखारी राय दें या एआईएमआईएम प्रमुख असददुद्दीन ओवैसी राय दें तो ज्यादा ठीक रहेगा. वहीँ सोशल मीडिया पर लोगों का कहना है कि हमेशा अपने विवादित बयानों के कारण सुर्ख़ियों में रहने वाले आजम खान की ओर से ऐसा बयान साफ़ दर्शाता है कि सत्ता परिवर्तन कैसे किसी का भी घमंड नीचे उतार देती है.

आजम के विवादित बोल !

आज भले ही आजम खान बेहद शांत और नर्म बयान दे रहे हैं लेकिन कुछ ही दिन पहले तक उनके बोल बिलकुल अलग थे. आइये देखते हैं कि उन्होंने कब और क्या विवादित बयान दिए.

यूपी चुनाव प्रचार के दौरान आजम खान ने मऊ की चुनावी जनसभा में कहा था कि बीजेपी के सांसद योगी आदित्यनाथ के पास खोपड़ी है ही नहीं तो दिमाग कहां से होगा.

यूपी चुनाव प्रचार के दौरान जलालपुर विधानसभा क्षेत्र से सपा की ओर से चुनाव लड़ रहे शंखलाल मांझी के पक्ष में एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए आजम ने कहा था कि बीजेपी के पास सीएम के लिए कोई चेहरा ही नहीं है. योगी पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा था कि “एक गोरखपुर के हैं, जिनका सर ऐसा है, जैसे पीछे हेलीकाप्टर की पूंछ निकली हो और सर के ऊपर की बनावट ऐसी है कि उसमे भेजा कहाँ रुकेगा पता ही नहीं.”

आजम ने अखिलेश यादव की तुलना योगी से करते हुए बयान दिया था कि, “कहाँ अपना अखिलेश और कहाँ योगी, जिसका नाम सुनकर बच्चे रोने लगते हैं और मांयें डर जाती हैं.”

हालांकि राजनीति के जानकारों और आम लोगों का मानना है कि शायद अब आजम जान गए हैं कि इस तरह के विवादित बयान सुकर कुछ लोग तालियां तो बजा सकते हैं, लेकिन इनसे जनता के वोट हासिल नहीं किये जा सकते. जनता इतनी जागरूक हो चुकी है कि उनके इन बयानों से बीजेपी का कोई नुक्सान होने की जगह उलटा फायदा ही हुआ है.

खैर यूपी में अब सत्‍ता परिवर्तन के साथ ही आजम समेत कई नेताओं के सुर बदल गए हैं. गौरतलब है कि रविवार को सीएम पद की शपथ लेकर योगी यूपी के 21वें मुख्‍यमंत्री बन चुके हैं.

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments