Home > ख़बरें > दिल्ली विधानसभा में केजरीवाल ने किया ऐसा घिनौना कांड, देखकर हक्का-बक्का रह गया पूरा देश !

दिल्ली विधानसभा में केजरीवाल ने किया ऐसा घिनौना कांड, देखकर हक्का-बक्का रह गया पूरा देश !

kejriwal-evm-fraud

नई दिल्ली : गलती से दिल्ली के मुख्यमंत्री बने अरविन्द केजरीवाल ने आज तो सभी हदें पार कर दी. ऐसा हम नहीं कह रहे हैं बल्कि ऐसा दिल्ली की वही जनता कह रही है, जिसने उन्हें गलती से वोट दे दिया था. जैसा कि सभी जानते है कि अभी हाल ही में केजरीवाल के पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा, जिन्हे केजरीवाल ने पार्टी से निकाल दिया ने केजरीवाल पर 2 करोड़ रुपये रिश्वत लेने का इल्जाम लगाया है. आज विधानसभा में उन्होंने कुछ ऐसा किया, जिसे देख दिल्ली की जनता ही भड़क गयी है.


दरअसल ये तय माना जा रहा है कि कपिल मिश्रा के खुलासों के बाद केजरीवाल को इस्तीफा देना पड़ सकता है. कपिल मिश्रा ने उनके पास सबूत होने का दावा करते हुए सीबीआई को सौंपने की बात कहते हुए ये सिद्ध कर दिया कि वो सच बोल रहे हैं और केजरीवाल वाकई में बेहद भ्रष्ट व्यक्ति हैं. दिल्ली की जनता को उम्मीद थी कि आम आदमी पार्टी में मचे घमासान और कपिल मिश्रा द्वारा लगाए गए आरोपों पर केजरीवाल विधानसभा में पक्ष रखेंगे.

लेकिन केजरीवाल खुद भी जानते हैं कि कपिल मिश्रा द्वारा लगाए गए आरोप एकदम सही हैं और वो जल्द ही हवालात की हवा खाने वाले हैं. ऐसे में यदि वो विधानसभा में इस बारे में बोले तो ये मुद्दा और भी ज्यादा हवा पकड़ेगा. बस फिर क्या था, मुद्दा दबाने के लिए और केजरीवाल को बचाने के लिए विधानसभा में आम आदमी पार्टी ने ईवीएम में छेड़छाड़ के मुद्दे पर चर्चा करनी शुरू कर दी और केजरीवाल के कैशकांड को ऐसे सफाई से गायब कर दिया जैसे गधे के सर से सींग.

मजे की बात तो ये है कि दिल्ली में 70 में से 67 सीटें जीतने वाली आप ने बीजेपी पर ईवीएम फ्रॉड का इल्जाम लगा दिया. आप विधायक सौरभ भारद्वाज ने तो बाकायदा ईवीएम में टेंपरिंग का डेमो दिखाया. इनके मुताबिक़ एक चिप लगा कर ईवीएम से छेड़छाड़ की जा सकती है. इससे पहले भी केजरीवाल ये कहते हुए दावा कर चुके हैं कि वो आईआईटी से इंजिनियर हैं और ईवीएम से छेड़छाड़ के दस तरीके जानते हैं.

अब सवाल ये है कि यदि केजरीवाल और उनकी पार्टी ईवीएम से छेड़छाड़ के इतने तरीके जानती है, तो क्या दिल्ली का चुनाव उन्होंने इसी तरह से जीता था? नेता विपक्ष और बीजेपी विधायक विजेंद्र गुप्ता ने जब लैंड डील में घोटाले का मामला उठाकर सदन में सचिव को दस्तावेज सौंपने की कोशिश की तो स्पीकर ने मार्शल बुलाकर उन्हें दिनभर के लिए निकाल दिया.


दरअसल केजरीवाल की ये हरकत साफ़ ये दिखाती है कि वो देश की जनता को मूर्ख समझते हैं. उन्हें लगता है कि वो कायदे से मीडिया का ध्यान अपने घोटालों से हटा कर ईवीएम मुद्दे की ओर मोड़ देंगे और जनता भ्रमित हो जायेगी.

11 मई को टैंकर घोटाले में दर्ज होगा बयान

आपको बता दें कि इससे पहले कपिल मिश्रा एक पीला लिफाफा लेकर सीबीआई दफ्तर पहुंचे थे. कपिल ने बताया कि वो सीबीआई से 3 शिकायतें करेंगे और सबूत भी सौंपेंगे. कपिल मिश्रा ने दावा किया है कि वो केजरीवाल और सत्येंद्र जैन के बीच हुई कैश डील केस में एफआईआर जरूर दर्ज कराएंगे. इसी के साथ टैंकर घोटाले के राज्यों का पर्दाफ़ाश भी करेंगे. इस सिलिसिले में एसीबी 11 मई को कपिल मिश्रा का बयान भी दर्ज करेगी.

ये तय है कि पंजाब और गोवा में करारी हार का मुँह देखने वाले केजरीवाल की राजनीति अब ख़त्म हो चुकी है, भ्रष्टाचार के चलते कई साल जेल में बिताने होंगे सो अलग. रही बात चुनावों की तो केजरीवाल ईवीएम फ्रॉड की वजह से नहीं बल्कि फर्जी डिग्री, सेक्स सीडी से लेकर हवाला कारोबार में शामिल अपने मंत्रियों और अपने भ्रष्टाचार और घमंड के कारण हारे हैं.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments