Home > ख़बरें > कश्मीर के बार म्यांमार बॉर्डर पर भी गरजा सेना का राकेट लॉन्चर, आतंकियों में मची चीख-पुकार !

कश्मीर के बार म्यांमार बॉर्डर पर भी गरजा सेना का राकेट लॉन्चर, आतंकियों में मची चीख-पुकार !

indian-army-rocket

नई दिल्ली : कश्मीर में तो सेना का सफाई अभियान चल ही रहा है, लेकिन अब एक बड़ी खबर अरुणाचल प्रदेश से आरही है. जहाँ सेना की स्पेशल फोर्सेज ने अरुणाचल-म्यांमार बॉर्डर पर भारतीय सेना ने एक आतंकवादी कैंप को नष्‍ट कर दिया है. भारत-म्यांमार सीमा पर नागा आतंकी संगठन एनएससीएन (के) के एक आतंकवादी कैंप को नष्ट कर दिया गया है. सेना के ऑपरेशन में एक आतंकवादी के मारे जाने की भी खबर है.

दो दिन से चल रहा था ऑपरेशन

अरुणाचल प्रदेश के लॉन्‍ग्‍ाडिंग जिले में हुए इस ऑपरेशन में सेना को बड़ी सफलता हाथ लगी है. सेना को कुछ वक़्त पहले इस आतंकी कैंप की खुफिया जानकारी प्राप्त हुई थी. जिसके बाद करीब दो दिन पहले इस ऑपरेशन की शुरुआत की गयी. सेना ने आतंकी कैंप को घेर कर सोमवार सुबह 7:30 बजे कैंप पर हमला बोल दिया. इस कार्रवाई में सेना के 21 पैरा (एसएफ) के जवान शामिल हुए. ऑपरेशन में सेना का एक जवान भी घायल हो गया.

सेना की बड़ी कामयाबी

बता दें कि ये एक क्रॉस बॉर्डर अटैक नहीं था, यानि भारतीय सेना ने म्यांमार बॉर्डर को पार नहीं किया. सेना ने भारतीय सीमा में रहते हुए म्‍यांमार बॉर्डर पर स्थित इस कैंप को तबाह कर दिया. कैंप पर हमला होते ही कई आतंकी म्यांमार की तरफ जंगलों में भाग निकले. सेना ने कैंप से 1 एके56 राइफल और 200 गोलियां बरामद की है. ऑपरेशन अभी भी चल रहा है और सेना बाकी आतंकियों पर कार्रवाई कर रही है. सेना अभी इस बारे में कुछ खुलकर नहीं कहना चाहती क्योंकि पीएम मोदी चीन से सीधे म्यांमार यात्रा पर जाने वाले हैं. इसलिए सेना इसे एक सामान्य ऑपरेशन बता रही है.


2015 में भी किया था हमला

जून 2015 में भी 21 यूनिट के करीब 70 कमांडरों की एक टीम ने म्यांमार सीमा पर रात के अंधियारे में सटीक हमला करके एनएससीएन (के) और केवाईकेएल उग्रवादी समूहों के 38 विद्रोहियों को मार गिराया था. बताया जा रहा है कि 4 जून, 2015 को घात लगाकर सेना के जवानों पर किए गए भीषण हमले के लिए एनएसीएन (के) और केवाईकेएल के उग्रवादी ही जिम्मेदार थे. इस हमले में सेना के 18 जवान शहीद हुए थे और 11 जवान घायल हो गए थे.

इसका बदला लेने के लिए सेना ने आतंकी ठिकाने पर हमला करने और उसे तबाह करने का ऑपरेशन चलाया था. ये ऑपरेशन कुल 40 मिनट तक चला था. कमांडोज ने मुठभेड़ में न केवल कैंप में मौजूद आतंकियों को मार गिराया, बल्कि रॉकेट लॉन्चर का इस्तेमाल करके कैंप को उड़ा दिया.

पीएम मोदी जा रहे हैं म्‍यांमार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 सितंबर को चीन से म्‍यांमार की आधिकारिक यात्रा पर जा रहे हैं. वो म्‍यांमार के तीन शहरों का दौरा करेंगे. यह दौरा ऐसे वक़्त में किया जा रहा है, जब भारत म्‍यांमार के साथ अपने रणनीतिक और औद्योगिक संबंध बढ़ाने में जुटा हुआ है. वहीं, दूसरी ओर चीन के साथ म्‍यांमार के संबंधों में खटास आती जा रही है. ऐसे में डोकलाम विवाद के बाद म्यांमार भारत-चीन के बीच एक नए विवाद की वजह बन सकता है.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments