Home > ख़बरें > फ्रांस और बेल्जियम के बाद ऑस्ट्रीया भी हुआ इस्लाम विरोधी

फ्रांस और बेल्जियम के बाद ऑस्ट्रीया भी हुआ इस्लाम विरोधी

austria-bans-burqaa

नई दिल्ली : भारत में कई मुस्लिमों को अक्सर शिकायत करते देखा होगा कि उनके प्रति भेदभाव होता है या उनका उचित ख्याल नहीं रखा जाता. कई नेता भी ऐसे लोगों का भरपूर फायदा उठाते हैं और तुष्टिकरण करके उन्हें एक वोटबैंक की तरह इस्तेमाल करते हैं. लेकिन हैरान कर देने वाली इस खबर को पढ़कर ऐसे सभी लोगों की बोलती बंद हो जायेगी.

इस्लाम के खिलाफ ऑस्ट्रिया का फरमान

अभी-अभी आयी मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक़ यूरोपीय देश ऑस्ट्रिया की सरकार देश में मुस्लिम महिलाओं के ‘बुर्क़े’ पर प्रतिबंध लगाने जा रही है. ऑस्ट्रिया की सरकार ने स्कूलों, अदालतों और अन्य सार्वजनिक स्थानों पर ‘बुर्क़े’ को पूर्ण रूप से बैन करने पर विचार-विमर्श भी शुरू कर दिया है. ऑस्ट्रिया का सत्तारूढ़ गठबंधन सभी सरकारी कर्मचारियों पर भी स्कार्फ़ और इस्लाम धर्म की प्रतीक समझी जाने वाली कोई भी वस्तु पहनने पर बैन लगाने जा रहा है.

क्यों छुपाना है चेहरा?

ऑस्ट्रियाई सरकार ने बाकायदा एक घोषणपत्र जारी किया है जिसमे बताया गया है कि ऑस्ट्रियाई सरकार ने इस्लाम धर्म द्वारा महिलाओं के लिए अनिवार्य “बुर्क़े” को बैन करने की योजना बनाई है. ऑस्ट्रिया की सरकार ने अपने बयान में कहा है कि वो एक स्वतन्त्र समाज चाहते हैं और चेहरे को ढक कर रखना, छुपाना उनके समाज के ख़िलाफ़ है इसलिए वो “बुर्क़े” को बैन करने जा रहे हैं.

फ्रांस और बेल्जियम भी ले चुके हैं फैसला

आपको बता दें कि ऑस्ट्रिया ऐसा पहला देश नहीं है जो बुर्के को बैन करने जा रहा है, इससे पहले फ्रांस और बेल्जियम भी 2011 में बुर्क़े को बैन कर चुके हैं. और नीदरलैंड की संसद में भी इस पर बहस चल रही है और वहाँ के प्रधानमन्त्री पद के प्रबल दावेदार ने इस बात की घोषणा कर दी है कि वो सरकार बनाते ही उनके देश में मस्जिद और क़ुरआन भी बैन कर देंगे. हाल ही में जर्मन चांसलर एंजेला मैर्केल ने भी कहा था कि जिस स्तर तक संभव हो बुर्क़े पर बैन लगाना चाहिए.

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments