Home > मुख्य ख़बरें > अवैध कत्लखानों पर रोक के बाद शराबियों पर टूटा योगी का कहर, यूपी में मचा जोरदार तहलका

अवैध कत्लखानों पर रोक के बाद शराबियों पर टूटा योगी का कहर, यूपी में मचा जोरदार तहलका

Yogi-Adityanath-liquor-ban

लखनऊ : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री का पद संभालते ही योगी आदित्यनाथ लगातार बड़े-बड़े फैसले ले रहे हैं. अवैध क़त्लखानों पर लगाम लगाने के बाद अब योगी ने अपने टारगेट सेट कर लिए हैं. हाल ही में लोकसभा में भाषण देते हुए योगी ने कहा था कि प्रदेश में बहुत कुछ बंद होने वाला है. जिसके बाद अब एक ऐसी खबर सामने आ रही जिसने यूपी में एक बार फिर हड़कंप मचा दिया है.


यूपी में शराबबंदी पर विचार !

अवैध कत्लखानों पर रोक के बाद शुरू हुए विवाद अभी थमे भी नहीं थे कि बिहार की तर्ज पर उत्तर प्रदेश में भी शराबबंदी लागू होने की चर्चाएं शुरू हो गयी हैं. खबर आ रही है कि अवैध कत्लखानों के बाद योगी सरकार की लिस्ट में कई ऐसे मुद्दे हैं जिनसे प्रदेश में खलबली मच जाएगी. इनमें सबसे ऊपर है प्रदेश में शराब बंदी का मुद्दा. सूत्रों के मुताबिक़ यूपी में शराबबंदी लागू किये जाने पर तेजी से विचार किया जाना शुरू हो गया है. इसके लागू होने पर राज्य में शराब के कारण होने वाली मौंतों पर लगाम लग जाएगी.

योगी के काफी कुछ बंद किये जाने वाले बयान में कुछ ऐसे संकेत मिले हैं कि वो बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नक्शे कदम पर चलते हुए शराबबंदी करने के मूड में हैं. योगी यदि ये कदम उठाते हैं तो ये बात तय मानी जा रही कि राज्य की महिलाएं जरूर योगी का साथ देंगी.

शराबबंदी को लेकर बैठकों के दौर शुरू !

खबर आयी है कि पिछले बुधवार को योगी आदित्यनाथ ने शराब को लेकर आबकारी सचिव के साथ मीटिंग भी की. इस मीटिंग के बाद डीआईजी रेंज ने एसपी, सीओ और पुलिस बल के साथ लखनऊ के कई इलाकों में शराब के ठेकों और दुकानों में चेकिंग अभियान चलाया. यूपी पुलिस ने शराब के ठेकों और शराब की दुकानों के आसपास सड़कों पर खड़े लोगों से पूछताछ की और लगभग 15 लोगों को गिरफ्तार कर लिया. इसके साथ ही कई गाड़ियों के चालान भी काटे गए.


कुछ लड़कों को शराब के ठेकों के पास आवारागर्दी करते हुए पकड़ा गया, जिन्हें हिरासत में लिया गया और बाद में उनके परिवारवालों को सुपुर्द कर दिया गया. नियमों का उल्लंघन करने के आरोप में भूतनाथ स्थित शराब की एक दुकान के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया.

सरकार की ओर से सभी थाना प्रभारियों को सख्त निर्देश दिए गए कि जो भी शराब ठेकेदार या दुकानदार नियमों का उल्लंघन करते पाया जाए उसके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्यवाही की जाए. सीएम योगी इसमें ज़रा सी भी लापरवाही बर्दाश्त करने के मूड में नहीं.

कुल मिलाकर इसे शराबबंदी से पहले की कार्यवाही कहा जा राह अहि. हाल ही में अवैध कत्लखानों और गौ-तस्करी पर पूर्ण रोक लगाने के बाद अब सीएम योगी की नज़रें शराब की दुकानों की ओर मुद गयी हैं. बताया जा रहा है कि सबसे पहले अवैध दुकानों के खिलाफ अभियान शुरू किया जाएगा और इसके बाद प्रदेश में पूर्ण शराबबंदी लागू की जायेगी.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments