Home > मुख्य ख़बरें > भारतीय सेना पर आयी इस सनसनीखेज मीडिया रिपोर्ट से पाक फ़ौज में मचा हाहाकार, बौखलाए नवाज

भारतीय सेना पर आयी इस सनसनीखेज मीडिया रिपोर्ट से पाक फ़ौज में मचा हाहाकार, बौखलाए नवाज

india-surgical-attack-on-pakistan

नई दिल्ली : अभी-अभी आयी मीडिया रिपोर्ट्स ने पाकिस्तानी सेना के होश उड़ा दिए हैं. आपको याद होगा कि कश्मीर के उरी सेक्टर में पाकिस्तानी आतंकियों के हमले के बाद भारतीय सेना ने पिछले साल 28 और 29 सितंबर की रात को पाकिस्तान में घुस के पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक करके आतंकवादियों के ठिकानों को ध्वस्त कर दिया था और 50 से ज्यादा आतंकियों को ढेर कर दिया था. जिसे पहले तो पाकिस्तानी सेना ने झुटलाने की कोशिश की लेकिन बाद में कबूल कर लिया था कि भारतीय सेना ने अंदर घुस के उनकी बैंड बजायी थी. अब उससे जुड़े कुछ नए खुलासे हुए हैं जिनके सामने आने से पाकिस्तानी सेना की रातों की नींदें हराम हो गयी हैं.

2 दिन पहले ही की थी एलओसी पार

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ सर्जिकल हमला देर से नहीं किया गया था बल्कि भारतीय सेना ने उरी के हमले के फ़ौरन बाद ये तय कर लिया था कि पाकिस्तान में घुसके मारना है अबकी बार. सर्जिकल स्ट्राइक की योजना पर तुरंत काम शुरू हो गया था. आतंकियों के लॉन्चपैड्स पर नजदीक से नजर रखने के लिए सेना के एक मेजर अपनी टीम के साथ सर्जिकल स्ट्राइक से 2 दिन पहले ही एलओसी पार करके पीओके में घुस गए थे.

उनकी टीम ने पूरे इलाके का नक्शा तैयार किया, दुश्मनों के ऑटोमैटिक हथियारों की तैनाती की जगह का पता लगाने के साथ-साथ उन जगहों को निश्चित किया गया जहां से भारतीय सेना के जवान आतंकियों पर हमला करेंगे. पूरी प्लानिंग के साथ अमावस्या की रात का इंतजार किया गया और 28 सितंबर की रात को मेजर रोहित सूरी की अगुआई में पैराशूट रेजिमेंट के आठ कमांडोज की एक टीम अपने सबसे बड़े मिशन पर निकल पड़ी.


छलनी करके रख दिया देश के दुश्मनों को

ये टीम अपने टार्गेट के 50 मीटर के दायरे के अंदर तक घुस गए और आतंकियों को भून के रख दिया. सूरी ने अपनी जान की परवाह न करते पास के जंगलों में छुपे जिहादियों को भी नजदीक से चुनौती दी और उन्हें भी परलोक पहुचा दिया. एक वक़्त ऐसा भी आया जब भारतीय सेना की एक टीम आतंकियों की गोलीबारी में घिर गयी थी. एक मेजर ने तीन आतंकियों को देखा जो रॉकेट लॉन्चर्स से एक टीम पर हमला करने ही वाले थे, लेकिन इससे पहले कि ये जेहादी कुछ कर पाते, मेजर ने अपनी जान की परवाह न करते हुए इन जेहादियों को गोलियों से छलनी करके रख दिया.

सभी जवानों ने गजब के साहस का परिचय देते हुए विजय हासिल की और पूरे ऑपरेशन के दौरान किसी भी भारतीय जवान को अपनी जान नहीं गवानी पड़ी, हालांकि, निगरानी करने वाली टीम के एक पैराट्रूपर का पांव गलती से एक लैंड माइन पर पड़ गया था. इस धमाके में उसका दायां पंजा उड़ गया था. बुरी तरह से घायल होने के बावजूद अपनी परवाह न करते हुए इस पैराट्रूपर ने एक आतंकी को ढेर कर दिया.

26 जनवरी को सर्जिकल स्ट्राइक करने के लिए 4th पैरा के अफसर मेजर रोहित सूरी को कीर्ति चक्र और कमांडिंग ऑफिसर कर्नल हरप्रीत संधू को युद्ध सेवा मेडल से नवाजा गया. उनकी टीम को चार शौर्य चक्र और 13 सेवा मेडल भी दिए गए हैं.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments