Home > मुख्य ख़बरें > रूस से आयी हैरतअंगेज खबर से पाकिस्तान में हाहाकार, देखकर आप भी पीएम मोदी को सलाम करेंगे

रूस से आयी हैरतअंगेज खबर से पाकिस्तान में हाहाकार, देखकर आप भी पीएम मोदी को सलाम करेंगे

modi-putin-dobhal-nawaj

नई दिल्ली : प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी की लाजवाब कूटनीति के चलते दुनिया के कई ताकतवर देशों के भारत के साथ सम्बन्ध और भी ज्यादा बेहतर हो चुके हैं. भारत की ताकत भी दिनों-दिन बढ़ती ही चली जा रही है, जिससे सबसे ज्यादा परेशान पाकिस्तान है. अब इसी सिलिसिले में अभी-अभी एक ऐसी बड़ी खबर आयी है जिसे सुनते ही पाकिस्तान में हाहाकार मच गया है.

मोदी और डोभाल का कमाल

पीएम मोदी के हाथ बड़ी कूटनीतिक सफलता लगी है. भारत के मित्र देश रूस ने फैसला किया है कि भविष्य में वो पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय सैन्य अभ्यास नहीं करेगा. इस खबर के बाहर आते ही पाकिस्तानी मीडिया में हाय-तौबा मच गया है. ख़बरों के अनुसार हाल ही में पाकिस्तानी नेवी ने रूस को द्विपक्षीय सैन्य अभ्यास का न्योता दिया था. इस न्योते का रूस की ओर से कोई जवाब तक नहीं दिया गया.

पीएम नरेंद्र मोदी जून में रूस के दौरे पर जाने वाले हैं जिसके बाद भारत रूस के साथ कई बड़े रक्षा सौदे करेगा. राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल ने जनवरी में रूस का दौरा किया था. रूस और भारत के संबंधों को और भी ज्यादा मजबूत बनाने के लिए उन्होंने कई मुद्दों पर हाई लेवल बातचीत भी की थी.

पाकिस्तान की योजना धराशायी

कुछ ही वक़्त पहले रूस ने पाकिस्तानी सेना के साथ सैन्य अभ्यास किया था जिसपर भारत की ओर से चिंता व्यक्त की गयी थी. पाकिस्तानी मीडिया में कहा जा रहा था कि ये सैन्य अभ्यास पीओके में किया जाएगा, लेकिन भारत की चिंताओं को देखते हुए उस वक़्त भी रूस ने इससे इनकार कर दिया था. हालांकि रूस ने पाकिस्तानी सेना के साथ पीओके से दूर युद्ध अभ्यास किया था.

इस सैन्य अभ्यास को लेकर भारतीय विदेश मंत्रालय ने रूस से अपनी चिंता व्यक्त की थी. पाकिस्तानी मीडिया में झूठ का प्रचार किया जाने लगा था कि रूस, पाकिस्तान और चीन के बीच भारत के खिलाफ गठजोड़ होने वाला है. लेकिन पाकिस्तान के इस मंसूबे पर भी पानी फिर चुका है.

पुतिन भी मोदी के साथ

विश्वसनीय सूत्रों के मुताबिक़ रूस ने इस बात को माना है कि उसके पाकिस्तान के साथ किये गए सैन्य अभ्यास से भारत को चिंता हुई थी. रूस के मुताबिक़ वो अपने पुराने दोस्त भारत के हितों के खिलाफ कुछ नहीं करेगा, पिछला सैन्य अभ्यास भी रूस ने केवल अपनी सेना की क्षमता बढ़ाने और पाकिस्तान के हालात का जायजा लेने के लिए किया था. लेकिन पाकिस्तानी मीडिया ने इस सैन्य अभ्यास के नाम पर भारत और रूस की दोस्ती में दरार डालने की कोशिश की.

रूस अच्छी तरह जानता है कि पाकिस्तान ही आतंकियों को पालता-पोसता है. कश्मीर के उरी सेक्टर में हुए आतंकी हमले के बाद रूस ने स्पष्ट किया था कि वो आतंकवादी पाकिस्तान से ही भारत में घुसे थे. केवल इतना ही नहीं बल्कि पाकिस्तान में घुस के जब भारतीय सेना की टीम ने पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक की थी, उस वक़्त भी रूस ने भारत के फैसले का समर्थन किया था.

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments