Home > मुख्य ख़बरें > आप शशिकला में उलझे रहे… उधर बीजेपी ने रजनीकांत से मिलकर कर दिया बड़ा काम !

आप शशिकला में उलझे रहे… उधर बीजेपी ने रजनीकांत से मिलकर कर दिया बड़ा काम !

rajinikanth-modi

नई दिल्ली : तमिलनाडु की राजनीति में इन दिनों काफी उठा-पटक चल रही है. जयललिता के निधन के बाद AIADMK ने पन्नीरसेल्वम को मुख्यमंत्री बनाया तो लेकिन शशिकला की राजनीतिक महत्वकांक्षा के चलते राज्य में बड़ा सियासी संकट खड़ा हो गया है. वहीँ इस पूरे घटनाक्रम पर बीजेपी भी नज़रें जमाये हुए है. दक्षिण भारत में पिछले कई सालों से बीजेपी कमल खिलाने की कोशिशों में लगी हुई है, लेकिन अबतक वहां बीजेपी के पास ऐसा कोई चेहरा नहीं था जो पार्टी के लिए बड़ा जनाधार जुटा सके.

बीजेपी के साथ आएंगे साऊथ के भगवान्

लेकिन अब बीजेपी के लिए बहुत बड़ी खुशखबरी सामने आ रही है. सूत्रों के मुताबिक दक्षिण भारत में भगवान का दर्जा रखने वाले सुपरस्टार रजनीकांत अब राजनीति में उतरने वाले हैं. जानकारी के मुताबिक रजनीकांत अपनी एक अलग राजनीतिक पार्टी बना सकते हैं और बीजेपी के साथ गठबंधन कर सकते हैं. ऐसा करने से एक ओर रजनीकांत को बड़े संगठन का साथ मिलेगा और वहीं दूसरी ओर बीजेपी तमिलनाडु में सरकार बना पायेगी. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पूरी कोशिश कर रहा है कि रजनीकांत अपनी राजनीतिक पार्टी बना लें. बताया जा रहा है कि काफी वक़्त से संघ के विचारक एस गुरुमूर्ति रजनीकांत के संपर्क में हैं.

रिपोर्ट्स के मुताबिक़ तमिलनाडु के ताजा राजनीतिक घटनाक्रम से रजनीकांत बेहद खफा है, इसे लेकर हाल ही उन्होंने एक बड़ा बयान भी दिया था. ऐसे में रजनी अगर बीजेपी के साथ राजनीति में उतर जाते हैं तो तमाम राजनीतिक दलों की दुकाने बंद हो जाएंगी.


साऊथ में पहली बार बीजेपी !

गौरतलब है कि दक्षिण में तमिलनाड़ु को भगवान् की तरह माना जाता है, उनके चाहने वालों की तादात करोड़ों में है. हर उम्र और वर्ग के लोग रजनीकांत के फैन हैं. ऐसे में तमिलनाडु में यदि रजनी राजनीति में उतारते हैं तो वो जाहिर तौर पर एक बड़ी ताकत बन कर सामने आएंगे. आपको बता दें कि पन्नीरसेल्वम को भी बीजेपी का काफी करीबी कहा जाता है. जयललिता के निधन पर पीएम मोदी को पन्नीरसेल्वम को सात्वना देते हुए भी देखा गया था.

AIADMK में सियासी उठा-पटक से पार्टी का बंटवारा होना भी लगभग तय है. ऐसे में इस बात की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता कि राज्यपाल तमिलनाडु में राष्ट्रपति शासन लगा सकते हैं. यदि ऐसा होता है तो राज्य में दोबारा चुनाव होंगे और इसी संभावना को ध्यान में रखते हुए बीजेपी और संघ रजनीकांत को राजनीति में आने के लिए प्रेरित कर रहा है.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments