Home > मुख्य ख़बरें > ओडिशा से आयी बेहद हैरतअंगेज खबर से कांग्रेस में मचा हड़कंप, राहुल-सोनिया के छूटे पसीने

ओडिशा से आयी बेहद हैरतअंगेज खबर से कांग्रेस में मचा हड़कंप, राहुल-सोनिया के छूटे पसीने

rahul-sonia-modi

नई दिल्ली : जहां एक ओर ओडिशा में हुए पंचायत चुनावों में बीजेपी ने जबरदस्त प्रदर्शन किया, वहीँ कांग्रेस को करारी हार का सामना करना पड़ा. ओडिशा में करारी हार देखने के बाद अब कांग्रेस में हार के लिए अपने ही नेताओं को दोषी ठहराते हुए बीजेपी की तारीफों के पुल बाँधने शुरू कर दिए हैं.


पैसे की तंगी से चुनाव हारे !

ओडिशा में कांग्रेसी नेताओं ने अपनी हार के लिए राहुल गांधी, सोनिया गांधी और कांग्रेस आलाकमान के वरिष्ठ नेताओं को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि उन्हें चुनाव लड़ने के लिए पर्याप्त पैसे ही नहीं दिए गए. ओडिशा कांग्रेस नेताओं के मुताबिक़ ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के कोषाध्यक्ष और कांग्रेस नेता मोतीलाल वोरा ने जिला परिषद के चुनाव के लिए हर उम्मीदवार को केवल 20000 रुपए दिए थे. कांग्रेस की ओडिशा यूनिट ने भी कुल 5000 रुपए ही दिए, इसलिए हर कांग्रेस उम्मीदवार को कुल 25000 रुपये ही मिल पाए. इतने ही पैसे में उसे चुनाव से जुड़े सभी काम करने थे.

कालेधन के ख़त्म होने की कारण हुई हार !

कुछ कांग्रेसी नेताओं ने पीएम मोदी के नोटबंदी के फैसले को भी अपनी हार का कारण बताया. उनके मुताबिक़ नोटबंदी से नकदी संकट हो गया जिससे उन्हें हार का सामना करना पड़ा. कुछ कांग्रेसी नेताओं ने बहाने बनाते हुए कहा कि स्थानीय निकाय चुनावों में जनता सत्ताधारी पार्टी को ही वोट देती है. हालांकि उनकी ये बात सरासर झूठ है क्योंकि ओडिशा में बीजेपी की नहीं बीजेडी की सरकार है और इसके बावजूद बीजेपी ने अच्छा प्रदर्शन किया.


कांग्रेस नेता भी मोदी फैन

ओडिशा कांग्रेस के कई नेताओं ने माना कि बीजेपी कांग्रेस के मुकाबले में काफी अच्छा काम करती है और इसीलिए वो जनता के वोट आसानी से ले पायी. कांग्रेसी नेताओं ने पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान की तारीफ़ करते हुए कहा कि उन्होंने गरीब इलाकों में दलितों और आदिवासियों को गैस कनेक्शन मुहैया कराये जिससे वहां के गरीब लोगों का काफी फायदा हुआ. उन्होंने बीजेपी के विकास के मॉडल की भी तारीफ़ की.

अब जबकि नोटबंदी से कालाधन ख़त्म हो गया है, इसलिए कालेधन की ताकत से चुनाव जीतना असंभव हो चुका है. ऐसे में कांग्रेस को भी विकास के मुद्दे पर चुनाव लड़ना ही होगा वरना जल्द ही कांग्रेस देश के सभी राज्यों से गायब हो जायेगी. ओडिशा कांग्रेस के कई नेता तो बीजेपी के कामों से इतने प्रभावित हैं कि कहा जा रहा है कि उनमे से कई अब कांग्रेस का दामन छोड़ कर बीजेपी का हाथ थाम सकते हैं.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments