Home > मुख्य ख़बरें > ब्रेकिंग- मोदी सरकार ने लिया ना’पाक के खिलाफ अबतक का सबसे बड़ा फैसला, पाकिस्तान में हड़कंप

ब्रेकिंग- मोदी सरकार ने लिया ना’पाक के खिलाफ अबतक का सबसे बड़ा फैसला, पाकिस्तान में हड़कंप

pok-gilgit-baltistan-in-india

नई दिल्ली : कश्मीर में अशांति फैलाने वाले पाकिस्तान में बलोच लोगों के प्रदर्शनों का दौर जारी है. दरअसल लोग गिलगित और बालटिस्तान को पाकिस्तान का पांचवां प्रांत बनाये जाने का विरोध कर रहे हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ पाकिस्तान में लोगों ने सड़कों पर उतर कर जोरदार प्रदर्शन करते हुए पाक सरकार का पुतला भी फूंका.

भारत में शामिल होगा गिलगित-बाल्तिस्तान ?

अब इसी सिलसिले में केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने दावा किया है कि मोदी सरकार पीओके और गिलगित-बाल्तिस्तान को भारत में शामिल करेगी. उन्होंने बताया कि मोदी सरकार इस मुद्दे को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ले जायेगी.

दरअसल प्रदर्शनकारियों का कहना है कि चाहे तो हम भारत में शामिल हो जाएंगे, लेकिन पाकिस्तान का हिस्सा बन कर हम नरक से बदतर जिंदगी नहीं जीना चाहते. प्रदर्शनकारियों ने पीएम मोदी से भी उनकी सहायता करने के लिए मदद मांगी.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ एक ओर तो पाकिस्तान भारत के टुकड़े करने का ख़्वाब देखता रहता है और कश्मीर के लोगों को भड़काता है. वहीँ दूसरी ओर वो गिलगित-बाल्तिस्तान, बलूचिस्तान के लोगों का शोषण करता आया है.

बलूचिस्तान मांगे आजादी !

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले से बलूचिस्तान तथा पाक अधिकृत कश्मीर में मानवाधिकार उल्लंघन की तरफ दुनिया का ध्यान खींचने की बात भी कही थी. जिसके बाद दुनिया का ध्‍यान बलूचिस्तान और गिलगित-बाल्तिस्तान में हो रहे मानवाधिकार उल्लंघन की ओर गया था. जिसके बाद ये मुद्दा यूएन तक पहुंच गया था.


गिलगित और बालटिस्तान और बलूचिस्तान के मुद्दे पर पाकिस्तान अब चारों ओर से घिरता नज़र आ रहा है और दुनिया के सामने उसे लगातार शर्मिंदगी उठानी पड़ रही है. पिछले रविवार को भी लंदन स्थित पाकिस्तानी दूतावास के बाहर भारी संख्या में बलोच मूल के लोगों ने पाकिस्तान के खिलाफ प्रदर्शन किये थे.

इन प्रदर्शनकारियों ने आरोप लगाए थे कि पाक सेना और पाक खुफिया एजेंसियों के इशारे पर 18 मार्च 2014 को बलोच छात्र संगठन (आजाद) के पूर्व अध्यक्ष जाहिद बलोच को अगवा कर लिया गया. प्रदर्शनकारियों ने मांग की कि जाहिद को जल्द से जल्द रिहा किया जाए.

प्रदर्शनकारियों ने बलूचिस्तान को आजाद करने की भी मांग की, उनके मुताबिक़ बलूचिस्तान प्राकृतिक संसाधनों के मामले में बेहद संपन्न है लेकिन पाकिस्तान के शोषण के कारण बलूचिस्तान की गिनती पाकिस्तान के सबसे पिछड़े और गरीब क्षेत्रों में होती है. बलोच लोगों को सामाजिक और आर्थिक सुरक्षा भी मुहैया नहीं कराई जाती और पाकिस्तान द्वारा बलोच लोगों को सदियों से शोषण किया जाता रहा है.

जानकारों के मुताबिक़ बलूचिस्तान और गिलगित-बाल्तिस्तान अब पाकिस्तान के हाथों से तेजी से फिसल रहा है. जैसे-जैसे भारत की स्थिति मजबूत होती जायेगी, वैसे-वैसे आतंक फैलाने वाला पाकिस्तान कमजोर पड़ता जाएगा. अमेरिका भी आतंक के मुद्दे पर पाकिस्तान का साथ छोड़ता नज़र आ रहा है. और जिस तरह से पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था का दिवाला पिट रहा है, जल्द ही चीन भी उसका साथ छोड़ देगा.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments