Home > मुख्य ख़बरें > रक्षामंत्री ने लिया कश्मीर में अब तक का सबसे बड़ा फैसला, जान बचाकर भागे अलगाववादी

रक्षामंत्री ने लिया कश्मीर में अब तक का सबसे बड़ा फैसला, जान बचाकर भागे अलगाववादी

narendra modi

नई दिल्ली : कांग्रेस के वक़्त में जहां कश्मीर में भारतीय सुरक्षाबलों के जवान पत्थरबाजों के पत्थर खाते रहते थे और उनकी सुनने वाला कोई ना था. वहीँ मोदी सरकार में जवानों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए कश्मीर में रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने बड़ा फैसला ले लिया है. इस फैसले का महत्व इसलिए भी ज्यादा है क्योंकि आजतक ऐसा निर्णय भारत में कभी नहीं लिया गया था.

रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने लगाई मुहर

अलगाववादी नेताओं से और उनके गुर्गों द्वारा की जाने वाली पत्थरबाजी से बेहद खफा भारतीय सेना के बर्दास्‍त करने की सीमा खत्‍म हो चुकी है. हाल ही में सेना प्रमुख बिपिन रावत ने बयान दिया था कि यदि पत्थरबाजों ने आतंकियों को बचाने के लिए सेना के जवानों पर पत्थर फेके तो उन्हें गोली मार दी जायेगी. सेना प्रमुख के इस बयान पर रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने भी अपनी मुहर लगा दी है.

3 किलोमीटर के रेडियस में भी आने की मनाही

पर्रिकर ने एक निजी चैनल से कहा कि सेना के ऑपरेशन में यदि कोई रुकावट डालने की कोशिश करता है तो, उस वक़्त कमांडिंग ऑफिसर के पास निर्णय लेने के लिए फ्री हैंड होता है. इसके साथ ही मोदी सरकार ने निर्देश जारी कर दिए हैं कि सेना के ऑपरेशन के दौरान स्थानीय लोग उस इलाके के 3 किलोमीटर के रेडियस में नहीं आने चाहिए. पर्रिकर ने साफ़-साफ़ और बेहद कड़े शब्दों में कहा कि सेना कश्मीर के हर नागरिक को आतंकियों का समर्थक नहीं मानती है, लेकिन जो आतंकियों का साथ देता है वो आतंकी ही है.

तीन बार चेतावनी, उसके बाद गोली

यानी अब कश्‍मीर में सेना के जवानों को आतंकी ऑपरेशन के दौरान पत्थरबाजी करने वाले लोगों के खिलाफ कार्रवाई की खुली छूट मिल गई है. अब यदि सेना के ऑपरेशन के वक़्त कोई आतंकियों का हमदर्द बनकर उनकी सुरक्षा के लिए सामने आता है और तीन बार चेतावनी दिए जाने पर भी नहीं मानता तो उनका मुकाबला लाठियों से नहीं बल्कि गोलियां से किया जाएगा.

इस चेतावनी के बाद से कश्‍मीर के अलगाववादी नेताओं के होश फाख्ता हो चुके हैं और सभी अपने-अपने बिलों में दुबक गए हैं. दिहाड़ी पत्‍थरबाजों की भी हालत खस्ता हो गयी है.

आपको बता दें कि हाल ही में कश्‍मीर के कुलगाम और बांदीपुरा में आतंकियों के एनकाउंटर के वक़्त कुछ स्‍थानीय लोगों ने सेना के जवानों पर पत्थरबाजी करना शुरू कर दिया था. कुछ स्थानीय लोगों की पत्थरबाजी के चलते आतंकियों के एनकाउंटर में लगे कई जवानों को अपनी जान से हाथ भी धोना पड़ा था.

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments