Home > मुख्य ख़बरें > ब्रेकिंग- सेना प्रमुख का माथा ठनका, सेना को दिए हाहाकारी आदेश, पाकिस्तान में मची हाय-तौबा

ब्रेकिंग- सेना प्रमुख का माथा ठनका, सेना को दिए हाहाकारी आदेश, पाकिस्तान में मची हाय-तौबा

bipin-rawat-orders-shoot-at-loc

नई दिल्ली : कश्मीर को भारत से छीन लेने के लिए पाकिस्तानी आतंकी आये दिन भारत में घुसपैठ करके आतंकी वारदातों को अंजाम देते रहते हैं. अभी हाल में भी आतंकियों के एनकाउंटर आपरेशन में कई भारतीय सैनिकों की जान चली गयी थी. इन आतंकी वारदातों से थलसेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत बेहद गुस्से में आ गए हैं. इसी के तहत उन्होंने सेना को ऐसे निर्देश दे दिए हैं जिससे आतंकियों में हाहाकार मच गया है. पाकिस्तानी मीडिया में भी भारतीय सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत के खौफ की चर्चा की जाने लगी है.


आतंकियों को एलओसी पर ही मार गिराएं

आतंकी गतिविधियों पर लगाम लगाने के लिए अब थलसेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने सेना और बीएसएफ को स्पष्ट निर्देश दे दिए हैं कि आतंकियों को एलओसी पर देखते ही मार गिराया जाए. किसी आतंकी को गिरफ्तार किये जाने की जगह सीधे गोली मारने के आदेश जारी किये गए हैं. कश्मीर में आतंकियों के समर्थन में सुरक्षाबलों पर किये जाने वाली पत्थरबाजी से भी बेहद खफा जनरल रावत ने सुरक्षा एजेंसियों को निर्देश दिए हैं कि पत्थरबाजों के खिलाफ उचित कार्रवाई की जाए.

गौरतलब है कि जनरल रावत थलसेना अध्यक्ष बनने के बाद पहली बार कश्मीर आये हुए हैं. यहां उन्होंने चिनार कोर मुख्यालय में सेना के अफसरों के साथ भारत-पाक सीमा की मौजूदा स्थिति, सीमा पार से होने वाली घुसपैठ को रोकने के उपायों और पाकिस्तान की ओर से सीजफायर के उलंघन से निपटने की रणनीति की समीक्षा की.


जनरल रावत ने सेना के अफसरों को निर्देश दिए कि वो कश्मीर के स्थानीय ग्रामीणों और युवाओं के साथ संवाद बढ़ाएं और उन्हें देश विरोधी तत्वों से दूर रखने के सभी संभव प्रयास करें. जनरल रावत ने सुरक्षाबलों को निर्देश दिए कि वो राज्य की पुलिस व् प्रशासन के साथ पूरा समन्वय बना कर आतंकवाद के खिलाफ अभियान चलाएं.

सेना पर पत्थरबाजी करने वालों को मार दी जाएगी गोली

गौरतलब है कि अभी हाल ही में सेना पर पत्थरबाजी करने वालों के खिलाफ भी सेना प्रमुख जनरल रावत ने निर्देश दिए थे कि यदि कोई आतंकियों के समर्थन में सेना पर पत्थर फेकेगा तो उसे गोली मार दी जायेगी. इसके साथ ही कश्मीरी स्थानीय नागरिकों से अनुरोध किया गया था कि वो सेना के आपरेशन वाली जगह के 3 किलोमीटर के दायरे में ना जाएँ.  आतंकियों के एनकाउंटर ने पत्थरबाजों के कारण कई सैनिकों की जान चली गयी थी, जिसके बाद सेना प्रमुख को इतने सख्त आदेश देने पद गए थे. सेना प्रमुख ने कहा था कि आतंकियों और आतंकियों के समर्थकों के बीच कोई भेद-भाव नहीं किया जाएगा.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments