Home > मुख्य ख़बरें > अमेरिका से आयी ये मीडिया रिपोर्ट सेक्युलरों को अंदर तक झकझोर देगी, सोचने पर मजबूर हो जाएंगे

अमेरिका से आयी ये मीडिया रिपोर्ट सेक्युलरों को अंदर तक झकझोर देगी, सोचने पर मजबूर हो जाएंगे

alfred_ford_temple_west_bengal

नई दिल्ली : एक ओर भारत में फ़र्ज़ी सेकुलरिज्म के नाम पर कई तथाकथित समाजसेवी और विचारक हिंदुओं को ही आतंकवादी घोषित करने में लगे हुए हैं, वहीँ दूसरी ओर अमेरिका में ठीक इसका उलटा हो रहा है. पीएम मोदी खुद को राष्ट्रवादी हिन्दू कहते हैं तो फ़र्ज़ी सेकुलरिज्म के नाम पर देश का मीडिया उन्हें साम्प्रदायिक घोषित कर देता है. अमेरिका से आयी ये खबर आपको हैरान कर देगी और फ़र्ज़ी सेक्युलरों को तो इसे देख कर रोना ही आ जाएगा.


आपने फोर्ड कंपनी का नाम तो सुना ही होगा, इस कंपनी की गाड़ियां भारत में व् कई अन्य देशों में दौड़ती है. मूल रूप से अमेरिकी कंपनी फोर्ड दुनिया की सबसे बड़ी कंपनियों में से एक है जिसकी नींव हेनरी फोर्ड ने रखी थी. अब नीचे दी गयी तस्वीर को जरा ध्यान से देखिये.

alfred-ford-temple

इस तस्वीर में जो शख्स भगवान् राम और भगवान् कृष्ण के सामने लेटा हुआ है वो कोई और नहीं बल्कि खुद हेनरी फोर्ड के परपोते अल्फ्रेड फोर्ड हैं. ये तस्वीर अहमदाबाद के इस्कान मंदिर की है. आपको बता दें कि अल्फ्रेड फोर्ड सनातन धर्म में सन्यासी बन चुके हैं और अब धर्म-कर्म के कामो में ही व्यस्त रहते है. फोर्ड कंपनी अब इनके भाई विलियम फोर्ड चला रहे हैं.

1950 में जन्मे अल्फ्रेड फोर्ड ने 1974 में हिन्दू धर्म अपना लिया था और कृष्णभक्त बन गए थे. इसके अलावा वो 189 करोड़ रुपये दान देकर अमेरिका में दुनिया का सबसे बड़े वैदिक मंदिर भी बनवा रहे हैं. उनकी पत्नी का नाम शर्मीला भट्टाचार्य है. वो अक्सर ही भारत में मंदिरों के दर्शन के लिए आते रहते है. फिलहाल वो भारत में हैं और हाल ही में उन्होंने अहमदाबाद के मंदिर में दर्शन भी किये. इतना ही नहीं, उन्होंने “वैदिक प्लेनेटोरियम” बनाने के लिए मंदिर को 250 करोड़ रूपये का दान भी दिया.


The-Ford-who-loves-Lord-Krishna

हिन्दू धर्म अपनाने के बाद उन्होंने अपना हिन्दू नाम भी रखा, उनका हिन्दू नाम “अमरीश दास” है. उनकी दोनों बेटियां अनिशा फोर्ड और अमृता फोर्ड भी अमेरिका में सनातन धर्म का प्रचार करती हैं. खरबपति होने के बावजूद पूरा फोर्ड परिवार सनातन धर्म को अपना चुका है. अमेरिका में भी अल्फ्रेड फोर्ड प्रतिदिन मंदिर जाकर आराधना करते हैं.

1983 में उन्होंने अमेरिका के हवाई में हिन्दू मंदिर का निर्माण करवाया था और इसके लिए उस वक़्त करीब 32 करोड़ रुपये का दान भी दिया था. इसके अलावा उन्होंने रूस की राजधानी मॉस्को में भी 665 करोड़ रुपए का दान देकर एक वैदिक सेंटर की स्थापना करवाई है.

उनके अलावा भी अमेरिका के कई बड़े व्यापारी व् नामी हस्तियों ने सनातन धर्म अपनाया हुआ है लेकिन भारतीय मीडिया में इसकी कभी चर्चा नहीं की जाती. उलटा राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ जिसने कभी दूसरे धर्म के लोगों का धर्मांतरण नहीं किया उसे भी देश का मीडिया साम्प्रदायिक संगठन बताता है. अपने ही देश में राम मंदिर बनवाने के लिए कोर्ट में सालों से केस लड़ना पड़ रहा है वहीँ दूसरी ओर विदेश सनातन धर्म अपनाकर विदेशी धरती पर धड़ाधड़ मंदिरों का निर्माण करवा रहे हैं.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments